श्री जगदम्बाजी की आरती

आरती कीजे शैल सुता की जगदम्बाजी की, आरती कीजे….

स्नेह-सुधा सुख सुन्दर लिजै,

जिनके नाम लेत द्ग भीजै |

ऐसी वह माता वसुधा की ||

आरती कीजे शैल सुता की जगदम्बाजी की, आरती कीजे….

 

पाप विनाशिनी कलिला-मल-हरिणी,

दयामयी भवसागर तारिणी

शस्त्र धारिणी शैल विहारिणी,

बुध्दिराशि गणपती माता की ||

आरती कीजे शैल सुता की जगदम्बाजी की, आरती कीजे…

 

सिंहवाहिनी मातू भवानी,

गौरव गान करें जग प्राणी

शिव के हृदयासन की रानी,

करें आरती मिल-जुल ताकि ||

आरती कीजे शैल सुता की जगदम्बाजी की, आरती कीजे…